Author: pritamkurrey111

मार्केटिंग मिश्रण के परिवर्तन और प्रकार

मार्केटिंग मिश्रण के परिवर्तन और प्रकार

विपणन मिश्रण में परिवर्तन समय तथा परिस्थितियों (दशाओं) के अनुसार, विपणन मिश्रण में परिवर्तन करने होते हैं। उपभोक्ताओं द्वारा मांगों, उनकी पसंद तथा चाहतों, फैशनों, परंपराओं तथा परिपाटियों आदि में दिन प्रतिदिन विभिन्न परिवर्तन...

मार्केटिंग प्रबन्ध प्रक्रिया

विपणन प्रबंध ग्राहक की जरूरतों व आवश्यकताओं की पहचान तथा फिर लाभ के साथ ग्राहक की जरूरतों को संतुष्ट करने के लिए एक विपणन कार्यक्रम विकसित करने की एक प्रक्रिया है। अतः प्रभावी विपणन...

मार्केटिंग के दर्शन

विपणन-प्रबन्धन विपणन-परिकल्पना के क्रियाशील रूप का द्योतक है अर्थात् ग्राहकोन्मुख विपणन-दर्शन के अनुरूप पूर्व निर्धारित माँग का प्रबन्धन। विपणन प्रबन्ध को परिभाषित करते हुए कह सकते हैं कि इससे अभिप्राय ऐसे विपणन कार्यक्रमों के...

मार्केटिंग की प्रकृति

मार्केटिंग की प्रकृति स्टैन्टन के शब्दों में, “मार्केटिंग जीवन स्तर का सर्जन और वितरण है; यह ग्राहकों की इच्छाओं का पता लगाता है तब ऐसे उत्पाद अथवा सेवा की योजना बना कर उसका विकास...

सशक्तिकरण

सशक्तिकरण का महत्त्व इन कारणों के चलते सशक्तिकरण हाल के वर्षों में एक महत्त्वपूर्ण प्रक्रिया बन गई है- 1.बढ़ती प्रतिद्वंद्विता तथा त्वरित ग्राहक माँगे आदि के चलते प्रत्युत्तर की गति व उसका लचीलापन इतने...

HRM में नई अवधारणा

सेविवर्गीय प्रबंधक की भूमिका या प्रबंधकों को इस तरह से मदद व सहयोग करना होनी चाहिए कि मानव संसाधन का आदर्शता प्रयोग किया जा सके। मजदूरी विचार विमर्श, सामूहिक सौदेबाजी, पाली तथा सामाजिक कल्याण...

साक्षात्कार

साक्षात्कार परीक्षा संभवतया सबसे ज्यादा उपयोगी चयन का औजार है। परीक्षा एक विशेष प्रयोजन के लिये दो व्यक्तियों के मध्य आमने सामने का संवाद है। इस विधि में आवेदन के व्यक्तित्व (उसके) बुद्धिमत्ता, शौक...

नियुक्ति की मुख्य प्रक्रिया

कर्मचारियों के चयन में शामिल चरणों का वर्णन निम्नानुसार है:- 1. बाहरी एवं आंतरिक वातावरण:- आतरिक वातावरण कारकों से प्रभावित होता है। महत्त्वपूर्ण बाहरी कारकजो चयन को प्रभावित करते हैं वे श्रम बाजार में...

चयन के घटक

अर्थ एवं परिभाषा चयन करने का अर्थ है पसद करना। चयन व्यक्तियों को वाछित योग्यता एवं अहिता के आधार पर संगठन में कार्य करन हतु छाटन की प्रक्रिया है। डेल योडर के अनुसार चयन...

भर्ती के तरीके

भर्ती के तरीके – भर्ती के तरीके भर्ती के स्रोतों से भिन्न है। लोत वे स्थान है। भावी कर्मचारी उपलब्ध होते हैं। दूसरी ओर तरीके के रास्ते हैं जो भावीकर्मचारियों से संपर्क स्थापित करते...